वो पागल लड़की

उसके चेहरे की एक झलक, मुझको जन्नत दिखलाती है.
उसके आने की खुशबु भी, एक नई बसन्त ले आती है.

ok

जब दर्द दिलो में होता है, आखो से धारा बहती है.
सब ताने सुनती है दिन भर, लेकिन कुछ भी ना कहती है.

Continue reading

सैनिक – एक परिभाषा

हथेली पर लिए घूमता है, मौत का एहसास………
वो फौजी है साहब, कोई नेता नही।

जो हाथ उठेगा भारत पर वो हाथ काट ले जाएंगे।
जो आँख उठेगी भारत पर वो आँख नोच ले आयेंगे।

army

गद्दारो की टोली सुन लो, अब रक्त उबलता बाहों में।
इस बार लड़ाई जो होगी, फिर आर पार पहुचायेंगे।

Continue reading

मुलायम सिंह और उनके समाजवाद को आइना दिखाती कविता

जन मानस की ना कोई चिंता, जाम छलकता प्यालो में
देखो कैसे खेल खेलता, सत्ता के गलियारों में

Mulayam singh yadav family

जातिवाद का जहर पिलाकर, महल वहाँ बनवाया था
अपनी सत्ता बनी रहे, इसलिए जाल फैलाया था

Continue reading

JNU- देश को बांटने की कोशिश पर कविता

देश तोड़ने की बाते कर, अपना रंग दिखाया था
देशद्रोहियो की संगत में, अपना नाम लिखाया था
जी करता है गोली मारू, सत्ता के इन रंगों को
आग लगा दू वामपंथ के, नाजायज भिखमंगो को

JNU KI Khanai

Continue reading

केजरीवाल की राजनीति को दिखाती कविता

डूब गयी थी अंधकार में, धुंधली सब तस्वीरे थी
कांग्रेस का राज्य था फैला, कठपुतली सी हीरे थी

तभी एक जुगनू सा चमका, लोकतंत्र के पाये में
लोगो को उम्मीद जगी इस, अन्ना के छोटे साये में
kejri
Continue reading

सुकमा में नक्सली मुठभेड़ में शहीद हुये CRPF के जवानों के ऊपर कविता

मन विचलित है तन विचलित है, विचलित मेरी भाषा है.
धीरे धीरे धूमिल होती, मोदी जी से अब आशा है.

जो सैनिक लाचार खड़े है, अनुसाशन की राहो में.
हाथ बंधे है जिनके अक्सर, नियमो की शाखाओं में.

images

Continue reading